Loading...

Follow BLANK VOICE on Feedspot

Continue with Google
Continue with Facebook
or

Valid
BLANK VOICE
BLANK VOICE
+
हादसे ही है यहाँ या हादसा है जिंदगी तू हादसों से लड़ झगड़ तो बादशाह है ज़िन्दगी पास गम का खाब है आंखों में तेरे प्यास है इस प्यास को तू ओर जगा है वास्ता ए ज़िन्दगी हादसे ही है यहाँ या हादसा है जिंदगी के जोड़ दे तो तोड़ दे खुद को यूं मरोड़ दे खाख कर तू खुद को यूं के राख सी हो ज़िन्दगी हादसे ही है यहाँ या हादसा है ज़िन्दगी हाथ तेरे कुछ नहीँ ज्ञात तुझको कुछ नहीं बात कर ओर याद रख के जंग है ये ज़िन्दगी खुद को करदे सोना फिर सोने सी हो ये ज़िन्दगी हादसे ही है यहाँ या हादसा है जिंदगी लड़ जा तू मौत से कर बात सीना ठोक के इन सायों को तू दूर कर ओर खुद को ही तू ज्योत दे हर हार की तू मात बन फिर जीत ही है जिंदगी के हादसे ही है यहाँ या हादसा है ज़िन्दगी के सुन मत ये शोर है के सबके दिल मे चोर है तू सूर्य है दहक रहा ये अंधेरा भी घनघोर है दुनिया पर कर फतह  सिकन्दर है जिंदगी हादसों से लड़ यहाँ या हादसा ही बन यहाँ के हादसे ही है यहाँ या हादसा है ज़िदंगी के बन रहा तो ओर बन के घट रहा तो दौर बन खुद को यूँ गीठान दे न टूटे तू वो डोर बन ये साज़ सुन ओर शोर बन इमारत है तू ओर बन बस मंज़िलो को ही पहुँचे तू ओर रास्ता हो ज़िन्दगी के हादसों की हार कर ओर बन हादसा ए ज़िन्दगी के हादसे ही है यहाँ या हादसा है ज़िन्दगीके हादसे ही है यहाँ या हादसा है ज़िन्दगीअप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJAR you can also follow me on - Instagram - @prashant gurjar Facebook - #blank voice Youtube - Blank voice ..read more
रूहों का क़त्ल हुआ ओर मौत को भी शर्म आई उतरा जब मैं मैदान-ए- जंग में तो मेरे सामने वफ़ा आई के ज़ुल्म मैं उस पर भी करता ज़रूर पर उसे बचाने में भी मेरी ही दुआ आई ज़लील होता मैं अगर बक्श देता फिर उसने भी नज़रें झपकाई मैंने वफ़ा का लिहाज़ रखा और मुझे मार गयी बेवफाई ठीक उसी समय रूहो का कत्ल हुआ  और मौत को भी शर्म आई के इरादा नैक था तो मोहब्बत करने लगे   इश्क़ हमने किया और हम बस उनकी जरूरत बनने लगे के कातिल ने फ़िर अपनी ज़ुल्फें हवा में लहराई किसी का दिल टुटा और कब्र आशिक़ ने अपनी कुछ यूं खुदाई  रूह का कत्ल हुआ और मौत को भी शर्म आई फ़र्श पर बिखरे टुकड़े थे एक गाना था कुछ मुखड़े थे राग छिड़ा मोहब्बत का जब सुर कुछ उखड़े - उखड़े थे मोहब्बत फिर अब खत्म हुई  किसी के घर मातम मना ओर किसी के घर बजी शेहनाई  रूहों का क़त्ल हुआ  ओर मौत को भी शर्म आई अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJAR you can also follow me on - Instagram - @prashant gurjar Facebook - #blank voice Youtube - Blank voice ..read more
तेरे फ़ासलों के फ़ैसलों से ख़फ़ा हूँ मैं तेरे फ़ासलों के फ़ैसलों से ख़फ़ा हूँ मैं मोहब्बत मैं तुझे हुआ नफ़ा हूँ मैं अब चाहे पछता तू सनम पर अब तो तेरी ज़िंदगी से दफ़ा हूँ मैं तू छोड़ कर मुझको रह कहाँ पाएगी मुझसे दूर होकर भी तू मेरे नज़दीक आएगी  मुझे चाहकर अब तू ना जाने कैसे किसी  और को चाहेगी ख़त्म हूँ तेरे लिए पर तेरे अंदर  हरदफा हूँ मैं  तेरे फ़ासलों के फ़ैसलों से ख़फ़ा हूँ मैं बेशक तुझे अब मेरी ज़रूरत नहीं ओर मैं भी अब तेरे कुर्बत नहीं तुझे जाना है पता था मुझे  इस बात पर अब मुझे कोई हैरत नहीं तेरे साथ था जब तब गंदा था मैं पर अब एक दम सफ़ा हूँ मैं तेरे फ़ासलों के फ़ैसलों से ख़फ़ा हूँ मैं तू लेले सब कुछ जो तेरा है ये रूह तो थी तेरी ये जिस्म भी लेजा जो सिर्फ़ कहने को मेरा है वो वादे वो कसमें भी लेती जाना पर आख़री बार मुझे बस इतना बताना क्या नया प्यार भी मुझ जितना गहरा है जा तुझे माफ़ किया  जा तुझे माफ़ किया दुनिया के सामने क़बूल करता हूँ कि बेवफ़ा हूँ मैं पर मेरे हमदम मेरे दोस्त तेरे फ़सलों के फ़ैसलों से ज़िंदगी भर ख़फ़ा हूँ मैं..।अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJAR you can also follow me on - Instagram - @prashant gurjar Facebook - #blank voice Youtube - Prashant gurjar ..read more
छुट्टी वाला प्यार हूँ मैं छुट्टी वाला प्यार हूँ मैं  गर्मियों में भी आती है  और सर्दियों में भी आती है  जो जाते वक़्त ख़ूब रुलाती है  मेरी मोहब्बत सिर्फ़ छुट्टियों  में आती है शाम होते ही मुझे टेलिफ़ोन मिलाती है  मेरी मोहब्बत सिर्फ़ छुट्टियों में आती है  उसके लिए होली और दिवाली  के  बीच का त्योंहार हूँ  मैं  किसी  का छुट्टी वाला प्यार हूँ मैं  वो मेरी बातों का जवाब बड़ी ख़ूबसूरती से देती है  मेरे पास आकर भी वो  मुझसे दूर रहती है  गर्मियों की शामों में तय होता है  उसका अपने परिवार के साथ टहलना और  उसकी गली की ख़ुशबू से मेरे दिल का बहलना हर मुलाक़ात पर वो अपने शहर के कई  क़िस्से सुनाती है  अपने सारे दोस्तों के बारे में बताती है  मुझे लगता है उसके शहर में भी उसकी  एक मोहब्बत होगी  पर ख़ुश रहता हूँ मैं की वो कम से कम  छुट्टियों में तो मेरे बारे में सोचती होगी  ये सब जानकर भी उससे शादी करने के  लिए तैयार हूँ मैं नादानी में याद ना रहा मुझे की उसका छुट्टी वाला प्यार हूँ मैं जाने कहाँ खो जाते हैं वो दिन  पता ही नहीं चलता  और उसके अपने घर लौटने का वक़्त आ जाता है  उसके जाने के ग़म को दबाने में एक अरसा बीत  जाता है और  फिर से सर्दियों में मेरा छुट्टी वाला प्यार आ जाता है हर हफ़्ते तो नहीं  पर साल में सिर्फ़ दो बार आने वाला उसका इतवार हूँ मैं किसी का छुट्टी वाला प्यार हूँ मैं..।अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJAR you can also follow me on - Instagram - @prashant gurjar Facebook - #blank voice Youtube - Prashant gurjar ..read more
“लाज़मी है तेरा रूठ कर जाना”लाज़मी है तेरा रूठ कर जानामेरे सारे सचों को तेरा झूँठ कर जानातेरे बे-वफ़ा होने पर भीमेरा तुझको टूट कर चाहनाफिर भी मोहब्बत में लाज़मी है तेरारूठ कर जाना..कुछ तू मुझे सुनती नहीं हैऔरकुछ मेरा कहना ठीक नहीं हैमोहब्बत सबसे ज़रूरी है शायदइसलिए बिना ग़लती के मनाने कीरीत नई है..तुझसे लड़कर मैं बेचैन हो जाता हुँफिर मैं किसी मैखाने में कुछ यूँ खो जाता हूँजब सामने तु आती हैतो सारा नशा उतर जाता है मेराक्या लाज़मी है तेरा मेरी पूरी मैखाने कीशराब कोतेरा सिर्फ़ एक घूँट कर जानातु बताक्या लाज़मी है तेरा रूठ कर जाना..माना कि कुछ ग़लतियाँ मेरी भी हैकभी मैं बहुत जल्दी करता हूँऔर कभी बहुत देरी भी हैकुछ तेरी मैं सुनना नहीं चाहताऔरकुछ तुझे कहना नहीं चाहताझगड़ा अपना दमदार हैपर मोहब्बत अपनी गहरी भी हैहर बार लड़ने पर भीतुझमें एक हिस्सा है मेराऔर उस हिस्से की मौजूदगीको तेरा सबूत कर जानासनम शान्त कीबताना ?क्या अब भी लाज़मी है तेरा रूठ कर जाना..।अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJARyou can also follow me on -Instagram - @prashant gurjarFacebook - #blank voiceYoutube - Prashant gurjar             (Blank voice) ..read more
“जो आज है वो कल नहीं”जो आज है वो कल नहींजो पल-पल है वो हरपल नहींजो आज है वो कल नहींसमंदर है ये जज़्बात हमारेपर तुम्हारे क़द के जितनाइसमें तल नहीं..जो आज है वो कल नहींमोहब्बत करते हो तो इज़हार करोएक तरफ़ा ही सही किसी से प्यार करोकिसी को मरने दो तुम परओर किसी के ऊपर तुम मरोजो आज का नज़ारा हैवो कल को ओझल सही..जो आज है वो कल नहींतुम मिलोगे आज जिससेवो तुम्हारी ज़िंदगी से एक दिनरुख़सत् हो जाएगातुम इंतज़ार करोगे कल तक काओर वो शख़्स कहीं खो जाएगासमय होगा तुम्हारे पास बहुत सारापरशायद उसके पास कम समय काकोई हल नहीं..जो आज है वो कल नहींबहते रहो हमेशा नदियों की तरहवो तालाब मत बनो जिसमें कोईहलचल नहीं..क्यूँ की मेरे दोस्तमेरे हमदमजो आज है वो कल नहीं ।।जो आज है वो कल नहीं ।।अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJARyou can also follow me on -Instagram - @prashant gurjarFacebook - #blank voiceYoutube - Prashant gurjar             (Blank voice) ..read more
“अभी कल ही की तो बात है”अभी कल ही की तो बात हैजैसे कुछ बदला ही नहींसुबह हुई फिर से और फिर से अंधेरी रात हैबस अभी कल ही की तो बात हैसब साथ हुआ करते थेथोड़ी सी मोहब्बत औरकई जिगरी यार हुआ करते थेआज सिर्फ़ और सिर्फ़ जैसेजो कल था मेरे पास उसकी मीठी याद हैअभी कल ही की तो बात हैतुम सुनो तो सहीकल वो मेरे साथ थीआसमां साफ़ था और वो बड़ी हसीन रात थीउसने नदानी समझा मेरी हर एक बात कोऔर मैं मज़ाक़ में कहता चला गयाअपने दिल के हर एक जज़्बात कोना जाने उसने क्या सोचा होगाअपनी दुनिया में लौटकरयाद करके ख़ुश हुई होगी याख़ूब हँसी होगी अपनी साँस रोक करक्या उसने मेरे दिल का हालख़ुद को समझाया होगाया उसने सिर्फ़ मुझे भुलकरअपने दिल को ओर उलझाया होगामुझे पता है मुझे ग़लत समझती हैया यूँ कहूँ की समझती ही नहींसब कुछ पता है उसे शायदया फिरजानबूझकर वो हर चीज़ से अज्ञात हैजैसे अभी कल ही की बात हैमैं सोचता हूँ की वो क्या सोचती है मेरे बारे मेंजब वो जा रही थी तो देखा मैंनेउसकी आँखो में आँसुओं की बरसात हैअभी कल ही की तो बात हैउसे सहारे की ज़रूरत नहीं पता है मुझेपर मुझे तो उसके साथ चलना हैउसके ग़मों के आगे और उसकी हर ख़ुशी के बाद चलना हैख़ूबसूरत वो है मगरदिल उसका ओर सारे मेरे हालात हैंअब भी महसूस कर सकता हूँ मैं उसेजैसे बस कल ही की तो बात हैजैसे बस कल ही की तो बात है.....।अप्रतिम और अप्रकाशित                                                                   By PRASHANT GURJARyou can also follow me on -Instagram - @prashant gurjarFacebook - #blank voiceYoutube - Prashant gurjar (blank voice) ..read more
"mujhe chup rehna pasand hai"mujhe chup rehna pasan haikhamosh rehkar apne dil kihar baat kehna pasand haimujhe chup rehna pasand hai ..read more
“ZINDGI KO DOOR KAR LETA HOON”Main tab - tab apni zindgi ko khud se door kar leta hoonJab - jab main is dil ko tujhsePyar karne ko ..read more
Tere aane se mene gam likhna chod diyaTune na jaane kis tarah mere gamo ka rukh mod diyaTere aane se mene gam likhna chod diyaKisi se na ..read more

Separate tags by commas
To access this feature, please upgrade your account.
Start your free month
Free Preview